Wednesday, June 19, 2024
HomeStoryTenali Rama Story in Hindi तेनाली राम की कहानी

Tenali Rama Story in Hindi तेनाली राम की कहानी

Tenali Rama Story in Hindi – भारतीय इतिहास के समृद्ध इतिहास में, कई प्रतिभाशाली विद्वानों ने एक अमिट छाप छोड़ी है, उनकी बुद्धिमत्ता और चतुराई की दूर-दूर तक प्रशंसा की जाती है। इन चमकदार हस्तियों के बीच, एक व्यक्ति मौजूद है जो सबसे अलग है – तेनाली राम। उनकी असाधारण बुद्धि और उनकी सरलता के किस्से लोगों को मोहित और मंत्रमुग्ध करते रहते हैं। तो चलिए आपको सुनते है तेनाली राम की कहानियाँ। Read Tenali Rama Story in Hindi language for students of class 1, 2, 3, 4, 5, 6, 7, 8, 9, 10, 11, and 12. Here is Tenali Rama Story in Hindi.

Tenali Rama Story in Hindi

Tenali Rama Story in Hindi

दिव्यानगर में रुपाली नाम की एक स्त्री रहती थी। रुपाली अपनी तेज बुद्धि के लिए दिव्यानगर में बहुत मशहूर थी, लेकिन उसमें अहंकार का भाव भी था। उसने साहसपूर्वक घोषणा की कि जो कोई भी उसे बुद्धि की प्रतियोगिता में पछाड़ देगा, उसे वह 10 सोने के सिक्के इनाम में देगी। जब तेनाली राम को इस चुनौती का एहसास हुआ, तो उन्होंने इसे रुपाली को एक मूल्यवान सबक देने के अवसर के रूप में देखा।

तेनाली राम ने लकड़ी बेचने वाले के भेष में रुपाली के घर के सामने दुकान खोली। थोड़ी देर बाद रुपाली बाहर आई और लकड़ी के बंडल की कीमत पूछी। तेनाली ने उसे बताया कि वह भुगतान के रूप में केवल “मुट्ठी भर अनाज” स्वीकार करेगा। रुपाली इस पर सहमत हो गई और तेनाली को लकड़ी का बंडल ख़रीदने का निर्देश दिया। बदले में जब रुपाली ने एक मुट्ठी अनाज पेश किया, तो तेनाली ने दृढ़ता से इसे स्वीकार करने से इनकार कर दिया, और जोर देकर कहा कि उसने केवल एक ही अनाज मांगा था जो उसकी पूरी मुट्ठी भर सके, जिसे उसने “एक मुट्ठी अनाज” कहा था।

यह असहमति जल्द ही तीखी बहस में बदल गई। अंततः, रुपाली और तेनाली ने अपने विवाद को मजिस्ट्रेट के सामने लाने का फैसला किया। जब मजिस्ट्रेट ने तेनाली से उसके अटल रुख के बारे में पूछताछ की, तो उसने बताया कि उसने केवल एक ही अनाज मांगा था जो उसके हाथ को पूरी तरह से भर दे – एक मुट्ठी भर अनाज। रुपाली को समझ आ गयी थी कि तेनाली राम ने उसको अपने शब्दों के खेल में उलझा लिया। रुपाली को अपनी गलती का एहसास हुआ और उसने बुद्धि के युद्ध में अपनी हार स्वीकार कर ली। उसने अपना वादा पूरा किया और तेनाली को अपनी घोषणा के अनुसार पुरस्कृत किया, और ऐसा करके उसने अपना अहंकारी स्वभाव त्याग दिया।

आपको तेनालीराम की कहानियाँ (Tenali Rama Story in Hindi) किसी लगी, हमें बताएं।

Also Read:

Akbar Birbal Story in Hindi

Rabbit And Tortoise Story in Hindi

Like our Facebook page and follow our Instagram account.

RELATED ARTICLES
- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments