Wednesday, June 19, 2024
HomeLetterLetter to Minister in Hindi मंत्री को पत्र हिंदी में

Letter to Minister in Hindi मंत्री को पत्र हिंदी में

जानिए मंत्री को हिंदी में पत्र कैसे लिखा जाता है फॉर्मेट के साथ। Know how to write a letter to minister in Hindi with format for students of class 5, 6, 7, 8, 9, 10, 11 and 12.

Letter to Minister in Hindi मंत्री को पत्र हिंदी में

Letter to Minister in Hindi

Letter 1 – कानून और न्याय मंत्री को हिंदी में पत्र (Letter to Minister of Law and Justice in Hindi)

विधि व न्याय मंत्री को पत्र लिखिए। Write a letter to Minister of Law and Justice in Hindi language with sample format.

सेवा में,
मंत्री, विधि, न्याय व कंपनी मामले,
भारत सरकार,
नई दिल्ली
महोदय,

मैं आपका ध्यान भारतीय जेलों में बंद विचाराधीन कैदियों की दुर्दशा की ओर दिलाना चाहता हूं। मुझे आशा है कि आप इन तथ्यों पर गंभीरता से विचार करके कोई क्रांतिकारी कदम उठाएंगे। देश के विभिन्न राज्यों में कुल एक हजार दो सौ निन्यानवे जेल हैं। इन जेलों की वास्तविक क्षमता एक लाख इक्कीस हजार छह सौ निन्यानवे कैदी हैं। लेकिन इन जेलों में क़रीब तीन लाख क़ैदियों को घुटन भरी ज़िंदगी जीने की इजाज़त है, जिसमें दोषी क़ैदियों की संख्या बहुत कम है। विचाराधीन कैदी देश में स्थित कैदियों की संख्या का एक बड़ा हिस्सा हैं। 1974-75 के दौरान देश की जेलों में एक लाख सत्ताईस हजार विचाराधीन कैदी थे। इन विचाराधीन कैदियों ने छह महीने से लेकर बारह साल तक की लंबी अवधि जेल में बिताई थी। किसी विशेष अपराध के लिए, यदि अपराधी को न्यायालय द्वारा कुल छह महीने की सजा दी जानी चाहिए, तो इसके विपरीत, उसे मुकदमा लड़ते हुए तीन साल की जेल का सामना करना पड़ता है।

इतना ही नहीं आर्थिक और जमानत नहीं ले पाने वाले विचाराधीन कैदी की पीड़ा भी कम दुखद नहीं है। इस प्रकार, कैदी-जीवन अपने आप में पीड़ादायक है; लेकिन विचाराधीन कैदियों की मानसिक प्रताड़ना की आसानी से कल्पना नहीं की जा सकती; क्योंकि वे कैदी के अपराधी हैं और न ही वे अपराध-बोध से मुक्त हैं। बल्कि, वे अदालत के फैसले की प्रतीक्षा में, जेल में जवान से बड़े हो जाते हैं।

देश के सबसे बड़े राज्य उत्तर प्रदेश में वर्तमान में सबसे अधिक विचाराधीन कैदी हैं। उत्तर प्रदेश में 1978 में दोषी कैदियों की संख्या दस हजार नौ सौ चालीस थी, जबकि विचाराधीन कैदियों की संख्या उनतीस हजार नौ सौ निन्यानवे थी। पश्चिम बंगाल में कुल दोषी कैदियों की संख्या दो हजार थी, जबकि विचाराधीन कैदियों की संख्या आठ हजार थी। मध्य प्रदेश की जेलों में करीब छह हजार विचाराधीन कैदी थे। यहां देश की जेलों में बंद कैदियों में महिलाओं और बच्चों की संख्या में इजाफा हुआ है। देश की विभिन्न जेलों में बंद विचाराधीन कैदी ज्यादातर समाज के निचले तबके के लोग हैं। इन विचाराधीन कैदियों की हालत मासूम पक्षियों से भी ज्यादा दयनीय है।

बिहार के मुख्यमंत्री के मुताबिक, बिहार राज्य की जेलों में पांच हजार विचाराधीन कैदी इंसाफ का इंतजार कर रहे हैं। इनमें से ज्यादातर कैदी ऐसे हैं, जो एक बार भी कोर्ट में पेश नहीं हुए हैं। दो हजार ऐसे विचाराधीन कैदी हैं, जिन्होंने पांच साल से लेकर दस साल तक का लंबा समय जेल में बिताया है। दुखद बात यह है कि जिन अपराधों के लिए इन लोगों को कैद किया गया है, वे इतने गंभीर नहीं हैं कि अदालत के त्वरित फैसले में उन्हें अधिकतम एक साल की जेल हो सकती है। लेकिन अदालत के फैसले के अभाव में इन विचाराधीन कैदियों को जेल में दस गुना शारीरिक और मानसिक प्रताड़ना का सामना करना पड़ता है। दोषसिद्धि के मामले में, उसे वास्तविक सजा का सामना करना बाकी है।

क्या आप लोकसभा के आगामी सत्र में देश भर की जेलों में बंद विचाराधीन कैदियों के मौजूदा आंकड़े पेश करेंगे? देश की जेलों में बंद कैदियों की स्थिति बहुत ही दयनीय है। ये कैदी ऐसे हैं, जो केस लड़ने की बात तो दूर कोर्ट से जमानत भी नहीं ले पाते हैं। पैसों के अभाव में ये कठिन संघर्ष कर जीवन की साधारण आवश्यकताओं को पूरा करने में सक्षम होते हैं। ऐसे में उनके लिए वकील बनना आसान नहीं है। कठिन परिस्थितियों में न्याय पाने के लिए वे जेलों में बंद रहते हैं और हंगामा करते हैं। इस प्रकार गरीब प्राणी को दोहरी मार पड़ती है। महंगा न्याय उन्हें आर्थिक और शारीरिक रूप से नष्ट कर देता है। नतीजतन, वे अपने जीवन का एक मूल्यवान हिस्सा जेलों में बिताते हैं। अगर आप गहराई से सोचेंगे तो आपको पता चलेगा कि यह घोर अन्याय है। क्या आप इसके बारे में गहराई से सोचकर कुछ करेंगे?

भवदीय सीताराम आर्य, एडवोकेट, सुप्रीम कोर्ट,
नई दिल्ली
दिनांक……

Letter 2 – शिक्षा मंत्री को हिंदी में पत्र (Letter to Education Minister in Hindi)

2.1 – अपने गाँव में प्राथमिक विद्यालय खुलवाने के लिए अपने प्रदेश के शिक्षा मंत्री को एक निवेदन पत्र लिखिए। Write a request letter to the education minister of your state to open a primary school in your village in Hindi.

सेवा में,
माननीय शिक्षा मंत्री, हरियाणा सरकार, चंडीगढ़
विषय : बाल विद्यालय खोलने का अनुरोध।
महोदय,

हम, आदर्श नगर, गुड़गांव और आसपास के गांवों के निवासी आपसे अनुरोध करते हैं कि कृपया हमारी निम्नलिखित मांगों पर सहानुभूतिपूर्वक विचार करें। हमारे क्षेत्र में एक उच्च माध्यमिक विद्यालय है; लेकिन छोटे बच्चों का प्राथमिक स्कूल करीब दो किलोमीटर दूर है। प्राथमिक विद्यालय में पढ़ने वाले छोटे लड़के-लड़कियों के लिए शिक्षण संस्थान का इतना दूर होना उनकी शिक्षा में एक बड़ी बाधा है। गर्मी की दोपहरी की चिलचिलाती धूप में नन्हे-मुन्नों के स्कूल से वापस आने की स्थिति का आप अच्छे से अंदाजा लगा सकते हैं। इसी तरह सर्दियों में भी सुबह जब बच्चे भीषण ठंड में स्कूल जाते हैं तो उन्हें अपनी हालत पर दया आती है। बरसात के दिनों में उन्हें छुट्टी लेनी पड़ती है।

शिक्षा के प्रसार के इन दिनों में, यह स्थिति दुर्भाग्यपूर्ण मानी जाएगी, यदि इन छोटे बच्चों के लिए उनके इलाके के पास शिक्षा की व्यवस्था नहीं की जा सकी। यदि भारत के भावी नागरिक भी पर्याप्त संख्या में निरक्षर रहे तो आने वाली पीढ़ी भी अशिक्षित जीवन जीने को विवश होगी। भारत के लोगों के विकास के लिए शिक्षा को सुलभ बनाना बहुत महत्वपूर्ण है।

हम आपसे अनुरोध करते हैं कि इस क्षेत्र में जल्द से जल्द प्राथमिक विद्यालय खोलने की व्यवस्था करें। इस संबंध में यह भी उल्लेखनीय है कि हमारे शहर के सेठ थोडामल स्कूल के लिए जमीन देने को तैयार हैं। आशा है आप इस मामले में शीघ्र कार्यवाही करने की कृपा करेंगे। हम जवाब की उम्मीद में हैं।

दिनांक……
निवेदकआदर्श नगर, गुड़गांव के निवासी;
डॉ. राजेंदर कुमार, प्रधान हाउसिंग कौंसिल, मंत्री चौ. ऋत्विक सिंह, उपमंत्री रामलाल

2.2 – भारत की वर्तमान शिक्षा-प्रणाली के गुण-दोष और नवीन शिक्षा-प्रणाली के विषय में अपने विचार प्रगट करते हुए भारत के शिक्षा मंत्री को पत्र लिखिए। Write a letter to the Education Minister of India in Hindi expressing your views about the merits and demerits of the current education system of India and the new education system.

माननीय शिक्षा मंत्री, शिक्षा मंत्रालय,
भारत सरकार, नई दिल्ली

महोदय,

कुछ दिनों से मैं लगातार अखबारों में भारतीय शिक्षा प्रणाली के बारे में विभिन्न लोगों के विचारों को पढ़ रहा हूं। मैंने आपका भाषण भी पढ़ा जो आपने दिल्ली विश्वविद्यालय के दीक्षांत समारोह के अवसर पर दिया था। कभी-कभी भारत के चारों कोनों से विभिन्न प्रकार के लोग शिक्षा प्रणाली की आलोचना करते हैं। शिक्षाविदों से लेकर दफ्तर के बाबू तक वर्तमान शिक्षा को लेकर झगड़ते रहते हैं। मैं स्वयं वर्तमान शिक्षा प्रणाली में प्रचलित और व्यवहार में आने वाले कुछ सिद्धांतों से पूरी तरह असहमत हूं।

वर्तमान शिक्षा प्रणाली अंग्रेजों द्वारा बनाई गई थी। उन्हें अंग्रेजी में आधिकारिक काम करने के लिए क्लर्कों की जरूरत थी। लॉर्ड मैकाले ने भारत में जिस शिक्षा प्रणाली का पालन किया वह भारत के पर्यावरण के लिए कभी भी उपयुक्त नहीं थी। वर्तमान शिक्षा प्रणाली आर्थिक और सामाजिक दोनों रूप से भारतीय हितों के प्रतिकूल है। हमें इस विदेशी शिक्षा प्रणाली को छोड़ना होगा जो अंग्रेजी विचारधारा में फली-फूली।

आधुनिक शिक्षा प्रणाली की सबसे बड़ी कमी जीवन से पलायन है। यह शिक्षा छात्रों को जीवन के लिए तैयार नहीं करती है। स्कूल हो या कॉलेज से निकलने के बाद छात्र के सामने अंधेरा छा जाता है। परीक्षा पद्धति भी बेहद खराब है। छात्र साल भर मेहनत नहीं करते हैं और साल के अंत में होने वाली वार्षिक परीक्षा में कई सवालों के जवाब तैयार या कॉपी करके परीक्षा पास करते हैं। बहुत कम विद्यार्थी ही सही अर्थों में अपनी मेहनत से गुजरते हैं। अंग्रेजी एक विदेशी भाषा है। इसके शिक्षण की विशेष पद्धति का पालन नहीं किया जाता है, जिसके परिणामस्वरूप कई छात्र इस विषय में अनुत्तीर्ण हो जाते हैं। विज्ञान और तकनीकी शिक्षा के लिए सत्र प्रणाली का होना बहुत जरूरी है।

खुशी की बात है कि कोठारी शिक्षा आयोग द्वारा प्रस्तावित शिक्षा व्यवस्था को अब भारत सरकार ने दिल्ली में लागू कर दिया है। दिल्ली माध्यमिक शिक्षा बोर्ड और अखिल भारतीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड के सभी स्कूलों में 10+2+3 की नई शिक्षा व्यवस्था शिक्षा सुधार की दिशा में एक सराहनीय कदम है।

भवदीय
अभिनव
8.4.2008
विद्या भवन, नई दिल्ली

Like our Facebook page and follow our Instagram account.

RELATED ARTICLES
- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments